home page

सरकार की विभिन्न योजनाओं से दिव्यांगजन हो रहे आच्छादित।

 | 
सरकार की विभिन्न योजनाओं से दिव्यांगजन हो रहे आच्छादित।

अमेठी  30 दिसंबर 2021, जिला दिव्यांगजन सशक्तिकरण अधिकारी विद्या देवी  ने बताया कि दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग के माध्यम से प्रदेश सरकार द्वारा  दिव्यांगजनों के कल्याणार्थ विभिन्न योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है जिसके जरिए उन्हें दिव्यांग पेंशन योजना, कृत्रिम अंग सहायता उपकरण समेत कई लाभ दिए जा रहे हैं साथ ही प्रदेश सरकार उन्हें सशक्त बनाने हेतु हर सम्भव प्रयास कर रही है। दिव्यांगजनों के हितार्थ संचालित हो रही योजनान्तर्गत  यूडी आईडी कार्ड योजना के सम्बन्ध  में उन्होंने बताया कि भारत सरकार के सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा संचालित दिव्यांगजनों के हितार्थ यूनिक डिसऐबिलिटी आई0डी0 कार्ड (यू0डी0 आई0डी0) शासन की एक महत्वाकांक्षी योजना है, जिसके अंतर्गत जनपद के समस्त दिव्यांगजनों का यू0डी0आई0डी0 कार्ड बनाया जा रहा है जिसके माध्यम से दिव्यांगजनों को अनेक दस्तावेजों को साथ लेकर चलने की आवश्यकता नहीं होगी बल्कि उन्हें एक मात्र यूनिक डिसऐबिलिटी (यू0डी0आई0डी0) कार्ड के माध्यम से उनके हितार्थ चलाई जा रही समस्त योजनाओं का लाभ मिल सकेगा व भविष्य में सरकारी योजनाओं के लिए पात्र दिव्यांगजनों की पहचान व सत्यापन के लिए भी यह एक महत्वपूर्ण दस्तावेज के रूप में मान्य होगा, साथ ही यह कार्ड संपूर्ण भारत में भी मान्य होगा। उन्होंने बताया कि दिव्यांगजनों को यू0डी0आई0डी0 कार्ड बनवाने हेतु नजदीकी लोकवाणी/जनसेवा केंद्रों के माध्यम से वेबसाइट  www.swavlambancard.gov.in पर अपना ऑनलाइन पंजीयन कराकर कार्यालय मुख्य चिकित्सा अधिकारी, अमेठी में सोमवार को उपस्थित हो अपना कार्ड निर्गत करा सकते हैं इस हेतु उनके पास दिव्यांगता का प्रमाण पत्र जो कि मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा निर्गत हो, आधार कार्ड, जाति प्रमाण पत्र जो तहसील द्वारा निर्गत हो, एक नवीनतम फोटो तथा मोबाइल नंबर के साथ संपर्क कर सकते हैं। जनपद में अबतक 4935 दिव्यांगजनों के यूडीआईडी कार्ड जारी किया गया है। दिव्यांग भरण पोषण अनुदान योजनान्तर्गत उन्होंने बताया कि भरण पोषण अनुदान योजना के तहत दिव्यांग व्यक्तियों को  जिनकी दिव्यांगता न्यूनतम 40% है उन्हें शासन द्वारा रु 1000 प्रतिमाह की दर से पेंशन उनके खाते में भेजी जाती है। उन्होंने बताया कि उक्त योजना के अंतर्गत लाभार्थी को पेंशन प्राप्त करने हेतु वेबसाइट SSPY-UP.GOV.IN पर ऑनलाइन आवेदन  करना होता है आवेदन करते समय लाभार्थी के पास दिव्यांगता का प्रमाण पत्र जो मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा निर्गत हो, आय प्रमाण पत्र (ग्रामीण क्षेत्र में रुपए 46080 एवं शहरी क्षेत्र में रुपए 56460 अधिकतम) जो तहसील द्वारा निर्गत हो, बैंक पासबुक, नवीनतम फोटो, आधार कार्ड की छाया प्रति, ग्राम सभा की खुली बैठक का प्रस्ताव को ऑनलाइन आवेदन करते समय संलग्न करना अनिवार्य होगा। उन्होँने बताया कि उक्त योजना से जनपद के 10611 लाभार्थी लाभ प्राप्त कर रहे हैं।
कुष्ठावस्था भरण पोषण अनुदान योजना कुष्ठवस्था भरण पोषण अनुदान योजना के अंतर्गत कुष्ठता 1% से अधिक वाले दिव्यांगजनों को रुपए 3000 प्रतिमाह की दर से पेंशन दिया जाता है  जिसकी धनराशि लाभार्थी के खाते में भेजी जाती है। उन्होंने बताया कि उक्त योजना के अंतर्गत लाभार्थी को पेंशन प्राप्त करने हेतु वेबसाइट SSPY-UP.GOV.IN पर ऑनलाइन आवेदन  करना होता है। आवेदन करते समय लाभार्थी के पास दिव्यांगता का प्रमाण पत्र जो मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा निर्गत हो, आय प्रमाण पत्र (ग्रामीण क्षेत्र में रुपए 46080 एवं शहरी क्षेत्र में रुपए 56460 अधिकतम) जो तहसील द्वारा निर्गत हो, बैंक पासबुक, नवीनतम फोटो, आधार कार्ड की छाया प्रति, ग्राम सभा की खुली बैठक का प्रस्ताव को ऑनलाइन आवेदन करते समय संलग्न करना अनिवार्य होगा। उन्होनें बताया कि उक्त योजना से जनपद के  30 लाभार्थी लाभान्वित हो रहे हैं। कृत्रिम अंग/सहायक उपकरण योजना  कृत्रित अंग/सहायक उपकरण योजना के अंतर्गत दिव्यांगजनों को उनकी दिव्यांगता के अनुसार सहायक उपकरण ट्राई साइकिल, बैशाखी, कान की मशीन, व्हीलचेयर, मोटराजड ट्राईसाईकिल, छड़ी इत्यादि निशुल्क प्रदान किए जाते हैं इस योजना हेतु आवेदन ऑफलाइन जिला कार्यालय में किसी भी कार्य दिवस ने आवेदन किए जा सकते हैं उन्होंने बताया कि उपकरण उपलब्धता के आधार पर शिविर के माध्यम से दिव्यांग जनों को उनके हितार्थ आयोजित शिविर में वितरित किए जाते हैं। उन्होंने बताया कि उक्त योजना के अंतर्गत लाभार्थी को सहायक उपकरण निशुल्क प्राप्त करने हेतु आवेदन करना होता है। ऑफलाइन आवेदन हेतु कार्यालय जिला दिव्यांगजन सशक्तिकरण अधिकारी में अपने अभिलेख  दिव्यांगता का प्रमाण पत्र मुख्य चिकित्सा अधिकारी अमेठी द्वारा निर्गत, आय प्रमाण पत्र ग्रामीण क्षेत्र में रुपए 46080 एवं शहरी क्षेत्र में रुपए 56460 अधिकतम (तहसीलदार, माननीय विधायक, माननीय सांसद, महापौर, पार्षद एवं ग्राम प्रधान द्वारा निर्गत हो) फोटो एवं आधार कार्ड की छाया प्रति होना अनिवार्य है। शादी विवाह प्रोत्साहन पुरस्कार योजना दिव्यांग दंपत्ति को शादी विवाह प्रोत्साहन पुरस्कार योजना के अंतर्गत दंपत्ति में युवक के दिव्यांग होने पर सामान्य युवती से विवाह करने पर रु 15000 सामान्य युवक द्वारा दिव्यांग युवती से विवाह करने पर रुपए 20,000 दमपत्ति में युवक व युवती दोनों के दिव्यांगों होने पर  रूपये 35,000 की धनराशि  प्रोत्साहन  स्वरूप प्रदान की जाती है। उन्होनें बताया कि उक्त योजना से लाभान्वित होने के लिए दिव्यांगता प्रमाण पत्र ( मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा निर्गत), संयुक्त बैंक खाते की पासबुक, फोटो, आधार कार्ड की छायाप्रति, जाति प्रमाण पत्र व विवाह प्रमाण पत्र( रजिस्ट्रार कार्यालय द्वारा जारी) के साथ विभाग की वेबसाइट www.divyangjan.upsdc.gov.in पर अनलाइन आवेदन करने के उपरांत मूलप्रति को  कार्यालय जिला दिव्यांगजन सशक्तिकरण अधिकारी में जमा करना अनिवार्य है। दुकान संचालन/निर्माण ऋण योजना के  अंतर्गत दिव्यांगजनों को स्वरोजगार हेतु दुकान संचालन हेतु रुपए 10000 की धनराशि ऋण स्वरूप प्रदान किया जाता है जिसमें धनराशि रुपए 7500 पर 4% साधारण वार्षिक ब्याज की दर एवं धनराशि रुपए 2500 अनुदान स्वरूप  प्रदान की जाती है। उक्त योजना से लाभान्वित होने हेतु दिव्यांगता का प्रमाण पत्र न्यूनतम 40% मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा निर्गत, आय प्रमाण पत्र ग्रामीण क्षेत्र में रुपए 46080 एवं शहरी क्षेत्र में रुपए 56460 अधिकतम तहसील द्वारा निर्गत, बैंक खाते की पासबुक, फोटो, आधार कार्ड की छाया प्रति, जाति प्रमाण पत्र सहित विभाग की वेबसाइट www.divyangjandukan.upsdc.gov.in पर ऑनलाइन आवेदन कर उसकी मूल प्रति कार्यालय जिला दिव्यांगजन सशक्तिकरण अधिकारी में जमा करना अनिवार्य है।

 रिपोर्ट -मंडल प्रमुख रमेश कुमार अमेठी