home page

तभी तो यह महिला उन्नाव में कुछ खास है #पुष्पा यादव उर्फ डिंपल

तभी तो यह महिला उन्नाव में कुछ खास है #पुष्पा यादव उर्फ डिंपल
 | 
PUSHPA YADAV UNNAO

नाम- पुष्पा यादव उर्फ डिंपल
पार्टी -समाजवादी पार्टी उन्नाव
अनुभव- पूर्व ब्लाक प्रमुख सिकंदरपुर कर्ण

हमारी आज की इस खबर की व्यक्ति विशेष है पुष्पा यादव उर्फ डिंपल और विशेष इसलिए की उन्नाव में पुरुष प्रधान राजनीति के बीच कुछ चंद महिलाएं ही राजनीति में अपनी पहचान बना पाई है और उनमें से एक पुष्पा यादव है सिर्फ समाजवादी पार्टी में देखें तो 1 साल पहले तक मालती रावत मनीषा दीपक पुष्पा यादव जैसे कई चेहरे नजर आते थे लेकिन जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के बाद मालती रावत सपा से बाहर हो गई तो बीमारी के बाद मनीषा दीपक यह दुनिया छोड़ गई ऐसे में महिलाओं का नेतृत्व करने के लिए समाजवादी पार्टी उन्नाव में पुष्पा यादव के अलावा कोई विकल्प फिलहाल नजर नहीं आया बिना किसी बड़े पद के भी पुष्पा यादव ने महिलाओं के लिए एक लीडर के तौर पर पार्टी के लिए काम किया भगवंत नगर विधानसभा अंतर्गत सिकंदरपुर करण की ब्लाक प्रमुख भी रह चुकी है पुष्पा यादव, लेकिन 2021 के पंचायत चुनाव में जीत की कगार पर खड़े होने के बावजूद भी अपने कुछ लोगों से उन्हें धोखा मिला लिहाजा वह चुनाव हार गई चुनाव हारने के बाद भी उसी लए और मेहनत के साथ वह न सिर्फ भगवंत नगर बल्कि जिले के अलग-अलग जगहों पर पार्टी व गरीब जनता के लिए काम करती रही है

पुष्पा बुजुर्ग पुरुष और महिलाओं के बीच सबसे ज्यादा घुल मिल जाती हैं लोग कहते हैं  की पुष्पा काफी भावुक महिला हैं जनसभाओं में जब पुष्पा गरीब बुजुर्गों व परेशान व्यक्तियों का जब दुखड़ा सुनती हैं तो उनके भी आंखों से आंसू निकलने लगते हैं
पुष्पा यादव का आज भी मानना है कि अगर सिकंदरपुर करण में ब्लॉक प्रमुख का चुनाव डायरेक्ट जनता से होता तो उन्हें कोई हरा ना पाता क्योंकि ब्लॉक प्रमुख रहते हुए उन्होंने किसी अधिकारी या सत्ता के इसारे पर नहीं बल्कि जनता की जरूरत के हिसाब से काम किया है जरूरत के हिसाब से जब उनकी ब्लॉक में बजट नहीं आवंटित किया गया था तब वह डीएम की चौखट पर धरने पर भी बैठ गई थी हालांकि  ब्लाक प्रमुख रहते हुए पुष्पा यादव के ऊपर जब भी कोई मुसीबत पड़ी उनके पति व सपा जिला अध्यक्ष धर्मेंद्र यादव उनके साथ श्री कृष्ण की भांति सारथी बनकर नजर आते हैं , 2022 के चुनाव में उन्होंने भगवंत नगर विधानसभा के लिए अखिलेश यादव से अपने लिए सीट भी मांगी है
भले ही पुष्पा यादव बहुत सरल और  मृदुभाषी महिला हैं लेकिन जनसेवा के मामले में अधिकारियों की कोताही उन्हें बर्दाश्त नहीं होती और वह एक शेरनी की तरह काम करती हैं

ब्यूरो रिपोर्ट अशोक कुमार INF-INDIAN NEWS FREQUENCY उत्तर प्रदेश 9648616455