home page

ओवरलोड ट्रैक्टरों की दिन पर दिन रफ्तार तेज़ , हो सकती है दुर्घटना

 | 
ओवरलोड ट्रैक्टरों की दिन पर दिन रफ्तार तेज़ , हो सकती है दुर्घटना


ओवरलोड ट्रैक्टरों की भरमार से आए दिन हो रही दुर्घटनाएं बछरावा raebareli यातायात नियमों को ताक पर रखकर कृषि कार्य के उपयोग में ट्रैक्टरों का उपयोग भट्ठा मालिकों और ट्राला मैं 4 से 5000 ईटों को लादकर बछरावां विकास क्षेत्र से लगभग 500 ट्रैक्टर ईटों से भरे ट्रैक्टर खर्राटे भर रहे हैं और ओवरलोडिंग के कारण छोड़कर बनते ही टूट कर गड्ढों में तब्दील हो रही हैं वहीं सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार आरटीओ प्रशासन द्वारा ओवरलोड ट्रैक्टरों पर कोई कार्यवाही नहीं की जाती है आलम तो यह है कि हर चौराहे पर पुलिस की मंथली बंधी हुई है लखनऊ तक और ट्रैक्टर चालक ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि हम सभी ट्रैक्टर वाले आरटीओ रायबरेली को प्रतिमाह प्रति ट्रैक्टर ₹5000 टी मंथली देते हैं वही प्राप्त जानकारी के अनुसार इन ओवरलोड ट्रैक्टरों के ट्राला क्षमता अट्ठारह सौ ईटों की है लेकिन यातायात संरक्षण नियमों को ताक पर रखकर और अवैध कमाई का जरिया बने यह ट्राला प्रतिमाह करोड़ों रुपए कमाने का धंधा कई वर्षों से अनवरत चल रहा है लेकिन यातायात के अधिकारी और आरटीओ प्रशासन मौन है वहीं दूसरी तरफ योगी सरकार बड़े-बड़े दावे कर रही है कि भ्रष्टाचार पर लगाम लगाई जाएगी लेकिन योगी सरकार के इस आदेश की खुलेआम अधिकारी धज्जियां उड़ा रहे हैं तो सवाल उठता है कि क्या इन अवैध ओवरलोडिंग ट्रैक्टरों पर लगाम लगेगी या इसी तरह हर रात के भरते हुए लोगों को मौत के मुंह में रुलाते रहेंगे


असगर अली/वीरेंद्र कुशवाहा पत्रकार बछरावां हरचंदपुर रायबरेली