home page

चौकी इंचार्ज विवेक त्रिपाठी ने दिखाई मानवता

 | 
चौकी इंचार्ज विवेक त्रिपाठी ने दिखाई मानवता

पुलिस की मानवता का एक रूप और देखने को मिला गरीब को भोजन करा कर और पैसे देकर उसे गंतव्य से विदा किया जिसने भी सुना उसी ने तारीफ की

रायबरेली पुलिस का अमानवीय चेहरा और पुलिस की करतूत अक्सर मीडिया की सुर्खियां बनी रहती हैं। अगर बात करें पुलिस मित्र की तो आज सलोन कस्बे में इसकी बड़ी बानगी देखने को मिली दरअसल मामला यह है कि एक गरीब मजदूर परिवार सलोन कस्बे में दर दर की ठोकर खा रहा था, लेकिन इस गरीब परिवार का सहारा ना तो कोई समाजसेवी बना और ना ही इस चुनावी मौसम में किसी नेता ने इस को पनाह दी आपको बता दें कि एक गरीब परिवार को किसी ठेकेदार के द्वारा दिहाड़ी मजदूरी करने के लिए महाराष्ट्र से सलोन कस्बे में लाया गया जहां काम न मिलने की दशा में ठेकेदार गरीब परिवार को छोड़कर चंपत हो गया तो गरीब परिवार के पास ना तो खाने के पैसे थे और ना ही वापस जाने के लिए कोई रास्ता दिख रहा था। इस गरीब परिवार मे दो बच्चे और पति पत्नी दर दर की ठोकर खा रहे थे। तभी सलोन कस्बे में शाम को गश्त कर रहे कस्बा इंचार्ज विवेक त्रिपाठी की नजर इस परिवार पर पड़ती है। तो कस्बे की चौकी में बुलाकर इस परिवार का हालचाल पूछा और पूरी जानकारी ली। तो लाचार चारों व्यक्ति भूख से व्याकुल थे तभी मानवता की मिसाल देते हुए कस्बा इंचार्ज विवेक त्रिपाठी द्वारा बगल के होटल में बैठा कर पूरे परिवार को खाना खिलाया और फिर पूरी दास्तां जानने का प्रयास किया जिसके बाद पुलिसिंग की मिसाल देते हुए कस्बा इंचार्ज के द्वारा इस परिवार को घर जाने के लिए टिकट के 1500 रुपए दिए जाते हैं और साधन पर बिठाकर रेलवे स्टेशन रायबरेली तक भेजा जाता है। और रास्ते के लिए नाश्ते पानी की भी व्यवस्था करते हुए विवेक त्रिपाठी ने पुलिसिंग के साथ-साथ मानवता की संवेदना की मिसाल पेश की वही कस्बे के पटरी व्यापारी और आसपास के लोगों ने कस्बा इंचार्ज की इस संवेदना को खूब सराहा।


असगर अली आई एन एफ मीडिया