home page

बछरावां कस्बे में शिव मंदिर का जिगोद्वार शुरू ‍

 | 
बछरावां कस्बे में  शिव मंदिर का जिगोद्वार शुरू ‍

 रायबरेली जनपद बछरावां कस्बे के लिए एक कहावत बिल्कुल सटीक बैठती है  देख तेरे शसार की हालत क्या हो गई भगवान कितना बदल गया इंसान जैसा कि पुरातन काल से ही इस अखंड भारत गणराज्य में कुछ आतंकित शक्तियों के द्वारा एक ऐसे समाज की स्थापना की गई। जिसका प्रमुख उद्देश्य हिंदुओं की आस्था के केंद्रों को तोड़कर या छिन्न-भिन्न कर हिंदुओं के मन मस्तिष्क में ठेस पहुंचाना था। वर्तमान समय में जब भारत पुनः सभी धर्मों का सम्मान करते हुए विश्व गुरु बनने की पंक्ति में खड़ा है तो उस समाज के कुछ तुच्छ मानसिकता वाले लोगों के द्वारा सनातन संस्कृति के ऊपर व प्रतिवार करते हुए हिंदू आस्था के केंद्रों को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से निशाना बनाया जा रहा है। जानकारी के अनुसार आपको बताते चलें कि विगत 50 वर्षों से कस्बे की महाराजगंज रोड पर स्थित बछरावां विद्युत उपकेंद्र के परिसर में भगवान शिव का एक पावन मंदिर है। परंतु मंदिर में पूजा अर्चना न होने के कारण आज मंदिर की दशा जीर्ण-क्षीर्ण हो गई है। बात की जाए मंदिर की तो मंदिर को देखकर ऐसा लगता है कि जैसे कई दशकों से मंदिर में पूजा ही न हुई हो। ताज्जुब की बात तो यह है कि मंदिर जहां पर स्थित है उसके पीछे एक ईदगाह स्थित है और ईदगाह का जो भी कूड़ा करकट निकलता है वह मंदिर के पास फेंक दिया जाता है। जब इस मामले की भनक कि विद्युत विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों तो उन्होंने समाचार संकलन के द्वारा मंदिर परिसर को पुणे जी को द्वारा कराने के लिए मीडिया का सहारा लिया उसके बाद मंदिर प्रसव काजी गोदवार कराने के लिए बच्चा वा कस्बे से सोनी बिक्र फील्ड के संचालक मोनू सिंह द्वारा मंदिर परिसर का जीगोद्वार कराने का जिम्मा लिया है जिसमें नगर पंचायत की भी भागीदारी दिखाई पड़ी है


असगर अली पत्रकार बछरावां रायबरेली