home page

रायबरेली में मीडिया देख अधिकारी भागे, पढ़ें पूरी वजह

 | 
रायबरेली में मीडिया देख अधिकारी भागे, पढ़ें पूरी वजह
रायबरेली -

CST के नाम पर सेंट्रल का अधिकारी बताकर की जा रही थी अवैध वशूली मीडिया देख सवालों से बचकर भागे स्कार्पियो सवार अधिकारी

अशोक स्तंभ चिन्ह लगाकर व भारत सरकार लिखे प्राइवेट वाहन से रात्रि सड़कों पर वशूली करने निकले CST सेंट्रल के अधिकारियों का काला कारनामा हुआ उजागर

रायबरेली एक तरफ अशोक स्तंभ के चिन्ह का व भारत सरकार के शब्द का हो रहा दुरुपयोग दूसरी ओर बिना कमर्सिअल वाहन दर्ज कराए ही प्राइवेट वाहन में मानक के विपरीत अशोक स्तंभ का व भारत सरकार का लिखा होना सवालों के घेरे में आता है दअरसल 1 मामला मिल एरिया थाना क्षेत्र के मलिकमऊ स्थित 1 धर्म कांटे का है जहां पर मानक के विपरीत अपने को CST के सेंट्रल अधिकारी व कर्मचारी बताकर 1 मध्यम वर्गीय व्यवसाई के कबाड़ से लदे DCM को रोककर ड्राइवर से पूंछताछ करने लगे और बदसलूकी भी की गई इसी दौरान DCM ड्राइवर से धमकाकर कार्यवाही का हवाला देकर उससे सारे कागजात,बिलबुक, पैसे, मोबाइल,व अन्य सामान लेकर गाड़ी से ड्राइवर को नीचे उतार लिया मानवीय अधिकारों का हनन देख डरे सहमा ड्राइवर गाड़ी छोड़कर कार्यवाही के डर से मौके से भाग निकला स्थानीय लोगों की सूचना पर पहुंचे DCM गाड़ी मालिक से अधिकारीयों के साथ रहे कर्मचारियों व उनके दलालों ने गाड़ी मालिक से लाखों रुपए की मांग करने लगे यह ड्रामा करीब 2 घंटे तक धर्म कांटा पर चलता रहा जब बात नही बनी तो स्कॉर्पियो सवार CST के अधिकारियों व कर्मचारियों ने DCM को दूसरे ड्राइवर के सहारे सिविल लाइन स्थित ऑफिश लेकर चले गए
जैसा कि ज्ञात की CST के सेंट्रल अधिकारी यो द्वारा लिया जाने वाला एक प्रकार का अप्रत्यक्ष कर है जो केवल एक राज्य से दूसरे राज्य को बेचे गए माल पर लगाया जाता है, न कि राज्य के भीतर की गई बिक्री पर या बिक्री के आयात/निर्यात पर। यह केंद्रीय राज्य कर अधिनियम, 1956 द्वारा शासित
 है।