home page

बैंक से लिया पच्चीस लाख रुपए का ऋण ना लौटना पड़ा महंगा

बैंक से लिया पच्चीस लाख रुपए का ऋण ना लौटना पड़ा महंगा
 | 
रायबरेली समाचार
रायबरेली समाचार
बैंक से लिया पच्चीस लाख रुपए का ऋण ना लौटना पड़ा महंगा।
बैंक ने गिरवी रखा मकान किया सील।
खीरों (रायबरेली)- विकास क्षेत्र के कस्बा खीरों के रफीक नगर निवासी एक व्यवसाई द्वारा बीते आठ वर्ष पहले बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा सेमरी से व्यापार करने के लिए पच्चीस लाख रुपए ऋण लिया गया था। व्यवसायी द्वारा बैंक को ऋण न अदा करने पर मंगलवार को तहसीलदार लालगंज ज्ञान प्रकाश सिंह के नेतृत्व में बैंक आफ बड़ौदा शाखा सेमरी के शाखा प्रबन्धक नरेन्द्र प्रसाद ने अन्य बैंक कर्मियों, पुलिस व स्वयं व्यवसाई की मौजूदगी में उसका मकान तथा व्यापारिक प्रतिष्ठान में अपना ताला लगाकर उसे सील कर दिया।
        बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा सेमरी के प्रबंधक नरेंद्र प्रसाद ने बताया कि कस्बा खीरों के रफीक नगर मोहल्ला निवासी शहादत अली ने बीती 23 अप्रैल 2014 को मैसर्स शहादत अली मुबारक बेवरेज के नाम पर बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा सेमरी से पच्चीस लाख रुपए का ऋण लिया था। बदले में उन्होंने अपना मकान व अन्य सम्पत्ति बैंक में बंधक रखी थी। लेकिन आज तक उन्होंने अपने ऋण की अदायगी नहीं की। इसलिए उनका ब्याज सहित ऋण कुल 28 लाख 53 हजार हो गया है। बीते दिनों शहादत अली को कई नोटिस देकर ऋण की अदायगी के लिए कहा गया था । लेकिन उन्होंने नोटिस का कोई जवाब नहीं दिया । इसलिए मंगलवार को उनकी बंधक संपत्ति मकान व व्यापारिक प्रतिष्ठान को सील कर दिया गया है । उनके द्वारा ऋण अदा न करने पर अग्रिम कार्यवाही की जाएगी। जिसका सारा उत्तरदायित्व सहादत अली का होगा ।
रिपोर्ट@ रुस्तम यादव खीरों रायबरेली।