home page

दोस्त की हत्या कर उसका सिर लेकर घूमता रहा पूरे शहर में

 | 
दोस्त की हत्या कर उसका सिर लेकर घूमता रहा पूरे शहर में
उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में बीजेपी कार्यकर्ता ने दिल दहला देने वाली वारदात को अंजाम दिया है। उसने अपने ही दोस्त के सिर में पहले गोली मार हत्या कर दी। इसके बाद उसका सिर धड़ से अलग कर दिया। धड़ को फेंककर सिर को कार में रखकर उसे ठिकाने लगाने के फिराक में इधर-उधर घूमता रहा। इसी बीच उसे पुलिस ने उसे दबोच लिया। इस जघन्य हत्याकांड में उसका एक अन्य साथी भी शामिल था। पुलिस ने हत्या के आरोप में दोनों को गिरफ्तार कर दिया है। पुलिस हत्या के पीछे का कारण पता करने के प्रयास में लगी है। हत्यारोपी और मृतक दोनों की बीजेपी के कार्यकर्ता बताए जा रहे हैं।
घटना सिकंदरा थाना क्षेत्र के अरसेना गांव की है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि शुक्रवार तड़के करीब 3.30 बजे पुलिस गश्त कर रही थी, तभी उन्हें जंगल में एक कार खड़ी नजर आई। एक युवक कार से बाहर खड़ा था। जब पुलिस कार के पास पहुंची तो वहां एक युवक की सिर विहीन लाश पड़ी थी। कार के भीतर एक अन्य युवक बैठा हुआ था। पिछली सीट पर देखा तो पुलिस वालों के होश उड़ गए। सीट पर किसी युवक का सिर पड़ा हुआ था। पुलिस ने दोनों की आरोपियों को हिरासत में ले लिया। पूछताछ में पता चला कि मृतक चांदी कारोबारी नितिन वर्मा है। उसके भाई प्रवीन और अन्य परिवारीजनों ने मृतक की शिनाख्त की है। वह गुरुवार शाम को बेलनगंज के रहने वाले टिंकू भार्गव के साथ गए थे। उसके बाद लौटे नहीं।
 पुलिस ने बताया कि लोहामंडी तरकारी गली के रहने वाले चांदी व्यापारी नितिन वर्मा के घर के बाहरी हिस्से में अपनी दुकान थी। नितिन वर्मा बीजेपी के गोपेश्वर मंडल में उपाध्यक्ष थे। नितिन की पत्नी ने बताया कि शाम को जब नितिन को फोन किया तो उसने बताया कि वह बेलनगंज रहने वाले टिंकू के साथ है। कुछ ही देर में घर आ जाएगा, लेकिन रात होने पर जब दोबारा फोन किया तो फोन स्विच ऑफ हो गया। टिंकू को फोन किया तो उसका भी बंद आ रहा था। टिंकू बीजेपी अनुसूचित मोर्चा में जिलाध्यक्ष बताया जा रहा है।
थाना सिकंदरा पुलिस ने बताया कि इस हत्याकांड में टिंकू भार्गव और उसके साथ अनिल को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों ने नितिन के साथ पहले शराब पिलाई। इसके बाद उसकी गोली मारकर हत्या कर दी। फिर दोनों ने धारदार हथियार से सिर अलग कर दिया। पुलिस ने यह भी बताया कि टिंकू अपने किसी परिचित की कार लेकर आया था। उसकी नंबर प्लेट भी बदल दी थी ताकि सीसीटीवी में उसका नंबर ट्रेस ना हो सके।