home page

यूपी में पुलिस पर एक बार फिर घूसखोरी का आरोप...

 | 
यूपी में पुलिस पर एक बार फिर घूसखोरी का आरोप..
अमेठी: उत्तर प्रदेश के अमेठी में पुलिस विभाग की क्राइम ब्रांच टीम पर गंभीर आरोप लगे हैं। क्राइम ब्रांच के दो सिपाहियों पर अवैध रूप से मोटी रकम घूस मांगने का आरोप लगा है। अमेठी कोतवाली क्षेत्र के बारामासी के पास अवैध रूप से घूस की रकम लेने पहुंचे क्राइम ब्रांच के सिपाहियों को पीड़ित परिवार के लोगों ने दबोच लिया और वीडियो बनाना शुरू किया तो क्राइम ब्रांच के दोनों सिपाही बाइक से भागते हुए नजर आए। अब इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वहीं, पीड़ित युवक की पत्नी ने क्राइम ब्रांच के दोनों सिपाही पर पति को अंबेडकर तिराहे से ले जाकर मारपीट करने पति को छोड़ने के लिए एवज में तीन लाख रुपये घूस मांगने का आरोप लगाया है। अमेठी पुलिस अधीक्षक इलामारन ने दोनों सिपाहियो को सस्पेंड कर दिया। वहीं, मामले की जांच सीओ अमेठी मनोज कुमार यादव सौंपी है |
जानकारी के अनुसार, क्राइम ब्रांच के सिपाही पर पीड़ित परिवार ने गंभीर आरोप लगाए हैं। पीड़ित युवक प्रिंस की पत्नी गुड़िया ने बताया कि हमारे घर पर 30 जुलाई को भंडारे का कार्यक्रम है, जिसके लिए हमारे पति गुरुवार को चंदा लेने गए थे। वहीं, क्राइम ब्रांच के सिपाहियों ने चौराहे से प्रिंस को पकड़कर साथ लेकर टिकरिया चले गए। एक टावर के नीचे बने कमरे में ले जाकर पहले वहां दोनों सिपाहियों ने शराब पी, फिर जमकर प्रिंस को मारा-पीटा, जिससे उन्हें काफी चोट आई है और हमारे पति के मोबाइल से फोन कराकर 3 लाख रुपये मांगे। इस पर हमने कहा कि ठीक है, हम रुपये की व्यवस्था करके दे देंगे। तब उन लोगों ने बोला बारामासी के पास अकेले आओ और पैसा देकर प्रिंस को ले जाओ। पैसे की व्यवस्था नहीं हो पाई, लेकिन हमने झूठ बोल कर कहा कि पैसे की व्यवस्था हो गई है। इस पर उन्होंने कहा का बारामासी के पास आओ हम लोग वहां पर गए और हमारे परिवार के लोग इधर उधर खड़े थे। जैसे ही प्रिंस को लेकर सिपाही आए वैसे ही हम लोगों ने प्रिंस को बाइक से उतार लिया और जब हमने बैग दिया तो उसमे रुपये नहीं थे। रुपये न मिलने से दोनों सिपाही गाली-गलौज करने लगे और कट्टा निकाल कर डराने लगे, तब हम लोगों ने वीडियो बनाना शुरू किया। वीडियो बनता देख सिपाही भागने लगे। शुक्रवार को सुबह इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया ।
पीड़ित प्रिंस का कहना है कि दोनों सिपाहियों ने पकड़ कर टिकरिया टावर में ले जाकर पिटाई की और मेरी सोने की जंजीर और चंदा का 50 हजार रुपये भी ले लिए और बहुत पिटाई की और कहा कि तुमको स्मैक के साथ जेल भेज देंगे। इस मामले का एक ऑडियो भी वायरल भी हुआ है। आडियो में गुड़िया नाम की महिला को कोई अहमद भाई नाम का व्यक्ति काल कर एसओजी सिपाहियों के वीडियो को डिलीट करने, फेसबुक से हटाने और वीडियो वायरल न करने की सलाह दे रहा है। महिला नशे का कारोबार न करने की बात कह रही है तो वही काल करने वाला व्यक्ति उसे सिपाहियों के खिलाफ कुछ न करने पर खुलकर नशे का कारोबार करने पर कोई कार्रवाई न होने देने का भरोसा दिला रहा है। साथ ही यह भी कह रहा है कि सिपाहियों को कुछ नहीं होगा। एसपी को रुपये ले देकर मामला मैनेज कर लेंगे। साथ ही क्राइम ब्रांच की टीम पर अभद्रभाषा का भी प्रयोग किया। अहमद नामक व्यक्ति ने प्रिंस के बारे में पूछा तो महिला ने बताया कि उसे पुलिस ने इतना मार दिया है कि वह प्रतापगढ़ चला गया है। व्यक्ति गारंटी ले रहा है कि जब तक ये सिपाही रहेंगे, तब तक उसे एक शब्द नहीं कहेंगे और छू भी नहीं सकेंगे। सूत्रों की मानें तो आडियो में बोल रहा अहमद भाई बाजार शुकुल थाना क्षेत्र का है और अमेठी से लेकर प्रतापगढ़ तक स्मैक का थोक सप्लायर है।
वहीं, ट्वीट के माध्यम से उच्चाधिकारियों को इस मामले की जानकारी दी गई तो अमेठी पुलिस ने बताया कि मादक पदार्थों की बिक्री की सूचना पर पुलिस गई थी। उसके परिवारजनों ने पुलिस को देखते ही शोर करते हुए पेशबन्दी में मोबाइल से वीडियो बनाते हुए अनर्गल आरोप लगाने लगे। अपर पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार पांडेय ने बताया कि एसपी के निर्देश पर जांच सीओ अमेठी को दे दी गई है। जांच के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।