home page

रायबरेली के एक और बीजेपी नेता सपा में हुए शामिल

 | 
रायबरेली के एक और बीजेपी नेता सपा में हुए शामिल
रायबरेली-उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा 2022 के चुनाव को लेकर भारत निर्वाचन आयोग द्वारा आचार संहिता लागू कर दी गई है आचार संहिता लागू होने के कुछ दिन बाद ही सत्तारूढ़ रही भारतीय जनता पार्टी में अचानक उस समय भगदड़ व तोड़फोड़ मच गई जब बीजेपी के कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया बीजेपी में ओबीसी,एससी व अल्पसंख्यकों के लिए एक बड़े चेहरे के रूप में जाने जाते थे स्वामी प्रसाद मौर्य उनके पार्टी छोड़ते ही रायबरेली जनपद के भी कई भाजपा के पदाधिकारियों ने अपने पदों से इस्तीफा दे दिया यह इस्तीफे की कवायत लगातार चलती चली आ रही है। इसी को लेकर आज एक और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ कार्यकर्ता व मौजूदा समय में बीजेपी के ही मुख्य शाखा में रहे कार्यकारिणी सदस्य प्रदीप तिवारी उर्फ (दीपू) ने भारतीय जनता पार्टी को त्याग कर समाजवादी पार्टी की सदस्यता लखनऊ में ले ली समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सदस्यता दिलाई जिसकी तस्वीरें खुद अखिलेश यादव ने अपने टि्वटर हैंडल से शेयर की दअरसल जिले के शहर कोतवाली थाना क्षेत्र के मनिका रोड स्थित गांधीनगर निवासी प्रदीप तिवारी उर्फ (दीपू) जो कि रायबरेली सदर विधानसभा के दावेदार बनकर पार्टी को थामा हैं।वहीं सदर विधानसभा को समाजवादी पार्टी में जिस ब्राह्मण चेहरे की तलाश थी शायद उसको पूरा करने की कवायद में जोर शोर से लगे हुए हैं और सपा में आने के बाद प्रदीप तिवारी से बात की गई तो उन्होंने बताया कि अगर पार्टी ने रायबरेली सदर से टिकट दिया तो वह सदर सीट से जीतकर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के हाथों को मजबूत करेंगे अगर टिकट नहीं मिला तो पार्टी के साथ निष्ठावान होकर मिले निर्देशों पर भी खरा उतरूंगा फिलहाल अब देखना यह है सपा में सदर दावेदारी की लाइन में लगे प्रदीप तिवारी को इस बार मौका मिलता है या नहीं यह तो आने वाला वक्त बताएगा फिलहाल एक के बाद एक भारतीय जनता पार्टी से दूर होते जा रहे हैं और अखिलेश यादव के हाथों को मजबूत करने की कवायद में लगे हुए हैं |