home page

डीएम ने आधार कार्ड से वोटर आईडी का स्वैच्छिक एकीकरण कार्यक्रम का किया शुभारंभ

 | 
डीएम ने आधार कार्ड से वोटर आईडी का स्वैच्छिक एकीकरण कार्यक्रम का किया शुभारंभ

   जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी, डा0 उज्ज्वल कुमार ने आज एलबीएस डिग्री कालेज में दीप प्रज्वलित कर आधार कार्ड से वोटर आईडी का स्वैच्छिक एकीकरण कार्यक्रम का किया शुभारंभ। कार्यक्रम में भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार निर्वाचक नामावली में सम्मिलित निर्वाचकों से स्वैच्छिक रूप से आधार नम्बर एकत्रित किये जाने की कार्यवाही 01 अगस्त, 2022 से प्रारम्भ की जा रही है। लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1950 के नियम-23 के अनुसार सम्मिलित मतदाताओं द्वारा आधार नम्बर, निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण नियम 1960 के उपनियम-26बी द्वारा अधिसूचित फार्म-6बी में दिया जायेगा। फार्म-6बी ऑनलाइन NVSP.IN पर उपलब्ध रहेगा।
            उन्होंने बताया है कि स्व० प्रमाणन के साथ सम्बन्धित मतदाता, मतदाता पोर्टल / एप पर आनलाइन फार्म 8बी भर सकता है तथा यूआईडीएआई में पंजीकृत अपने मोबाइल नम्बर पर प्राप्त होने वाले ओटीपी का उपयोग करके आधार को स्वयं प्रमाणित कर सकता है। आधार नम्बर एकत्रीकरण हेतु अगस्त माह में दो तिथियां यथा 07 अगस्त एवं 21 अगस्त दिन रविवार को विशेष कैम्प आयोजन के लिए निर्धारित किया गया है। यह कैम्प जनपद के समस्त मतदेय स्थलों पर किया गया है। जहां पर मतदाता सूची में शामिल मतदाता फार्म 6बी में स्वैच्छिक रूप से अपना आधार नम्बर भरकर बूथ लेवल अधिकारियों को उपलब्ध करा सकते है।
            उन्होंने यह भी बताया है कि निर्वाचक नामावली में शामिल मतदाताओं से आफलाइन माध्यम से स्वैच्छिक रूप से आधार नम्बर एकत्रित किये जाने के लिए फार्म 6ख हार्ड कापी में मतदाताओं से प्राप्त करने हेतु बूथ लेबिल अधिकारियों द्वारा दिनांक 01 अगस्त, 2022 से घर-घर भ्रमण कर प्राप्त किया जायेगा और प्राप्त किये गये फार्म-6ख को बी०एल०ओ० द्वारा गरूड़ ऐप या ई०आर०ओ० द्वारा प्रयोग किये जा रहे ई०आर०ओ० नेट पर फार्म-6ख की प्राप्ति के सात दिनों के अन्दर डिजीटाइज्ड किया जायेगा। इसके साथ ही बी०एल०ओ० के घर-घर भ्रमण के दौरान मतदाता सूची में अंकित मतदाता यदि अपने घर में किन्हीं कारणवश नहीं मिलता है तो उसके आसपास के लोगों से जानकारी प्राप्त कर पुनः उस घर का भ्रमण किया जाना अपेक्षित होगा। बी०एल०ओ० द्वारा घर-घर भ्रमण के दौरान मतदाताओं को आनलाइन माध्यम से आधार नम्बर के हेतु प्रोत्साहित किया जायेगा। मतदाताओं द्वारा आधार उपलब्ध कराना स्वैच्छिक है और इस आधार पर उसका नाम मतदाता सूची डाटाबेस से अपमार्जित नहीं किया जायेगा कि उनके द्वारा आधार नम्बर उपलब्ध नहीं कराया गया है, तथा प्राप्त आधार नम्बर को किसी भी स्थिति में सार्वजनिक नही किया जायेगा यदि मतदाता की जानकारी को सार्वजनिक किया जाना आवश्यक है तो आधार विवरण को हटाया / छिपाया जाना अपेक्षित है। इस सम्बन्ध में आधार संख्या वाले हार्डकापी में फार्म - 6ख के संरक्षण के लिए आधार (प्रमाणीकरण एवं आफलाइन सत्यापन) विनियम, 2002 (2021 का नम्बर-2) के विनियमन 14 (1एमबी) का कड़ाई से अनुपालन किया जायेगा, जिसके अनुसार भौतिक रूप से प्राप्त की गयी आधार नम्बर या आधार पत्रों की फोटो प्रतियों को अनुरोध कर्ता संस्था द्वारा संग्रहीत करने के पूर्व आधार नम्बर के पहले 8 अंको को छिपाया जायेगा। एकत्रित किये गये फार्म - 6ख को डिजीटाइजेशन के बाद संलग्न के साथ निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी द्वारा डबल लाक में सुरक्षित रखा जायेगा। सार्वजनिक डोमेन में भौतिक रूप से रखे गये फार्मों के किसी भी लिकेज के लिए सम्बन्धित निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी पूर्ण रूप से उत्तरदायी होगे।इसके अतिरिक्त आयोग द्वारा परिवर्धन / अपमार्जन / संशोधन इत्यादि से सम्बन्धित फार्मों को परिवर्तन किया गया है। परिवर्तित फार्मों में से प्रथम बार आवेदन कर रहे नये मतदाताओं के पंजीकरण हेतु फार्म-6, निर्वाचक नामावली में नाम सम्मिलित करने के प्रस्ताव पर आपत्ति हेतु तथा पूर्व से शामिल नाम को अपमार्जित करने हेतु फार्म-7 तथा निवास परिवर्तन / निर्वाचक नामावली में संशोधन / मतदाता पहचान पत्र का प्रतिस्थापन / दिव्यांग मतदाताओं के चिन्हांकन हेतु फार्म 8 है। आयोग द्वारा चार अर्हक तिथियां यथा- 01 जनवरी, 01 अप्रैल, 01 जुलाई एवं 01 अक्टूबर निर्धारित की गयी है। उक्त अर्हक तिथियों को या उससे पूर्व यदि कोई मतदाता 18 वर्ष की आयु पूर्ण करता है तो वह अपना नाम मतदाता सूची में शामिल करा सकता है।
              इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी सुरेश कुमार सोनी, उप जिलाधिकारी सदर गोण्डा विनोद कुमार सिंह, प्राचार्य एलबीएस पीजी कॉलेज, सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी, मुख्य नियंता एलबीएस पीजी कॉलेज सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।


जिला संवाददाता काशीराम मौर्य जनपद गोंडा